50 फ़िलिस्तीनियों के शहीद होने के बाद नींद से जगा संयुक्त राष्ट्र, इजराइल से की ये अपील

इर्ना की रिपोर्ट के अनुसार संयुक्त राष्ट्र संघ की इस समिति ने फ़िलिस्तीनियों के विरुद्ध इस्राईली सैनिकों के हिंसक और अमानवीय बर्ताव रुकवाने की मांग की है।

संयुक्त राष्ट्र संघ के मानवाधिकार रक्षकों और विशेषज्ञों ने इसी प्रकार ज़ायोनी शासन से फ़िलिस्तीनियों के विरुद्ध हिंसा रोकने की अपील की है और इन हमलों की निष्पक्ष जांच की मांग की है।

अमरीकी दूतावास के तेल अवीव से बैतुल स्थानांतरित किए जाने के अवसर पर फ़िलिस्तीनियों ने व्यापक प्रदर्शन किए जिस पर इस्राईली सैनिकों ने अंधाधुंध फ़ायरिंग की जिनमें अब तक 50 फ़िलिस्तीनी शहीद और दो हज़ार से अधिक लोग घायल हो गये।

हताहत होने वालों में दो बच्चे भी शामिल हैं। उल्लेखनीय है कि नकबा दिवस के अवसर पर ज़ायोनी शासन के ख़िलाफ़ प्रदर्शन कर रहे प्रदर्शनकारियों पर इस्राईली सैनिकों ने भीषण गोलीबारी कर दी है। इस्राईली सैनिकों के हाथों शहीद होने वाले फ़िलिस्तीनियों की संख्या लगातार बढ़ रही है।

पश्चिम एशिया का आसमान फ़िर से राकेटों और बारूद की गंध से भर गया है।. इस्राइल ने फिलिस्तीन के विद्रोही गुट हमास पर हमला कर पिछले छह महीनो से शांत इस इलाके में युद्ध की चिंगारिया भड़का दी हैं।.. हमास फिलिस्तीन का चरमपंथी गुट है जो छह महीने पहले फिलिस्तीन की सरकार से अलग होने के बाद से सबसे संवेदनशील गाजा इलाके पर कब्जा किए हुए है।

इस गुट ने फिलिस्तीन के सत्ताधारी फतह गुट को गाजा इलाके से खदेड़ दिया और कब्जा कर लिया। हमास को दुनिया में एक आतंकवादी संगठन के रूप में जाना जाता है तो इस्राइल की छवि भी एक युद्ध राष्ट्र की ही है।