तीन तलाक को लेकर शबाना आज़मी ने दिया ऐसा बयान, हो गई पत्रकारों की बोलती बंद

पूर्व सांसद और फिल्म अभिनेत्री शबाना आजमी ने कहा कि ट्रिपल तलाक हमारे संविधान के खिलाफ है। इसे मुस्लिम महिलाओं के शोषण के लिए कुछ लोगों ने गढ़ लिया है। केंद्र सरकार ने इसके खिलाफ जो कानून बनाया है उसका हम स्वागत करते हैं। दुनिया में 50  से ज्यादा इस्लामिक देशों में से 24 ने ट्रिपल तलाक को अपने संविधान से निकाल दिया है। भारत में जो लोग इसे खत्म करने का विरोध कर रहे हैं वे गलत हैं। भारत धर्मनिरपेक्ष देश है और संविधान ने यहां सबको बराबरी का अधिकार दिया है।

मोहम्मद हसन डिग्री कॉलेज में पत्रकारों से बातचीत में शबाना आजमी ने कहा कि ट्रिपल तलाक बीते कई दशकों से मुस्लिम महिलाओं का शोषण करता चला आ रहा था। ऐसा कानून जो महिलाओं का शोषण करें उसे हम बर्दाश्त नहीं कर सकते।

निर्भया कांड के बाद जस्टिस वर्मा ने जो रिपोर्ट सरकार को सौंपी थी, उसमें सख्त कानून के साथ समाज को जागरूक करने की बात भी कही गई थी। इसके बाद संसद ने बलात्कार के कानून में बदलाव कर सख्त कानून बनाया। बावजूद इसके दुष्कर्म की घटनाएं रुक नहीं रही हैं, जो चिंता का विषय है। ऐसे में हम सबको मिलकर लोगों को जागरूक करने की जरूरत है।

अक्सर यह देखने में आता है कि आरोपी कानून के लचीलेपन की वजह से छूट जाते है, इसलिए ऐसे मामलों की फास्टट्रैक कोर्ट में सुनवाई की जाय और दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा दी जा सके। उन्होंने कहा कि सरकार महिलाओं को आगे बढ़ाने के लिए तरह-तरह की योजनाएं लागू कर रही है। जरूरत है उसे ठीक से लागू कराने और उनके प्रति महिलाओं को जागरूक करने की है।

श में बलात्कार की बढ़ती घटनाओं पर चिंता जाहिर करते हुए शबाना ने कहा कि निर्भया कांड के बाद देश की संसद ने दुष्कर्म की वारदात के खिलाफ कानून में बदलाव कर सख्त कानून बनाया था, मगर इसके बावजूद आज जिस तरह से देश में दुष्कर्म की घटनाएं रुकने का नाम नहीं ले रही हैं, वो चिंता का विषय है। उन्होंने कहा कि हम सबको मिलकर लोगों को जागरूक करने की जरूरत है और सरकार को भी चाहिए कि जो भी ऐसे घृणित कार्य में दोषी पाया जाता है उसे कड़ी से कड़ी सजा दी जाय, जिससे समाज में संदेश जा सके।

शबाना आजमी ने तीन तलाक और को लेकर कही अब ये बात

शबाना आजमी ने तीन तलाक और को लेकर कही अब ये बात

Posted by Patrika Uttar Pradesh on Monday, August 13, 2018