अब रमजान मेर टेक्नोलॉजी का ट्विस्ट, इस बार अरब देशो में इस तरह देखा जाएगा चाँद

कुवैती खगोलशास्त्र ने कहा कि इस साल रमज़ान 17 मई को शुरू होने की उम्मीद है। आदिल अल-सादून ने कहा कि रमज़ान की शुरुआत की घोषणा करने वाले क्रिसेंट उत्तरी अफ्रीकी देशों में खुली आँखों से ईद का चाँद देखा जाएगा। लेकिन कुवैत में टेलीस्कोप की मदद से चाँद का दीदार किया जाएगा।

कुवैत समाचार एजेंसी (कुना) के मुताबिक, 16 मई को सूरत 6:16 बजे छिपेगा और चाँद लगभग 26 मिनट तक दिखाई देगा, और इसलिए 17 मई पवित्र महीने रमजान की शुरुआत होगी और पहला रोज़ा रखा जाएगा।

रमज़ान इस्लामिक कैलेंडर के नवे महीने में आता है। सभी अरब देशों में 17 मई से रमज़ान शुरू होने की उम्मीद की जा रही है। हर कोई इस पाक महीने में इबादत में मशगूल रहता है। सभी मुस्लिम लोग पुरे दिन रोज़ा रखते है नमाज़ पढ़ते है, तरहाबी पढ़ते है, कुरान-ए-पाक की तिलावत करते है।

यह पाक और बरकत वाला महिना होता है। अरब देशों में रहने वाले लोग साथ-साथ प्रवासी भी पुरे दिन काम करते है और वह रोज़ा भी रखते है। यह बहुत ही बरकत वाला महिना होता है इसलिए इस महीने लोग बुरी चीज़ों से बचते है और अल्लाह से अपने गुनाहों की तौबा करते है।

सभी अरब देशों में रमज़ान की तैयारियां ज़ोरों पर है लोग इस पाक महीने का बेसबरी से इंतज़ार कर रहा है। साथ ही लोगों में काफी ख़ुशी का महौल भी है। सभी मुस्लिम लोग 15 घंटे तक रोज़ा रखते है फिर रोज़ा इफ्तार करते है।