VIDEO :यूपी में मुसलमानों पर हुआ जुल्म, ईद नमाज़ तक पढने से मुस्लिम रहे महरूम

शिवाला कलां (बिजनौर) : बड़ी कुर्बानी पर रोक से आक्रोशित मुस्लिम समाज के लोगों ने शिवाला कलां गांव में ईद का त्योहार नहीं मनाया। न ईद की नमाज अदा की गई और न कुर्बानी हुई। आसपास के पांच गांवों के लोगों ने भी यहां नमाज अदा नहीं की। पुलिस-प्रशासनिक अधिकारी उन्हें कुर्बानी करने व ईद मनाने के लिए मनाते रहे लेकिन वे राजी नहीं हुए। गांव में तनाव और सुरक्षा के मद्देनजर फोर्स तैनात है।

शिवाला कलां में कुर्बानी को लेकर ¨हदू व मुस्लिम समाज के लोगों में पिछले कई दिन से तनातनी चल रही थी। ¨हदू पक्ष के लोगों ने गांव में बड़े जानवरों की कुर्बानी पर एतराज और इसे नई परंपरा बताते हुए पुलिस-प्रशासन से शिकायत की थी।

उधर, मुस्लिम पक्ष का कहना था कि यह नई परंपरा नहीं है। गांव में पिछले 50 साल से बड़े पशुओं की कुर्बानी हो रही है। त्योहार से पूर्व पुलिस-प्रशासन की दोनों पक्षों के साथ कई बार वार्ता हुई लेकिन मसले पर सहमति नहीं बनी। इससे नाराज मुस्लिमों ने ईद नहीं मनाने का एलान किया था।

बुधवार को गांव के ईदगाह पर काफी पुलिस-बल तैनात रहा, लेकिन शिवाला कलां व खुर्द के अलावा जाफरपुर, हुसैनपुर, भैंसा, झुझैला गांव के अकीदतमंद भी यहां नमाज के लिए नहीं पहुंचे। उक्त पांचों गांवों के लोग भी इस ईदगाह पर ही नमाज पढ़ते रहे हैं। इस बार ईदगाह पर न तो सफाई हुई और न अन्य तैयारी। लोगों ने घरों में भी कुर्बानी भी नहीं दी।

सुबह से ही एसडीएम उमेश मिश्रा, सीओ राजकुमार ¨सह पुलिस, पीएसी व आरएएफ के साथ गांव में डेरा डाले रहे। एसपी सिटी दिनेश कुमार व एडीएम विनोद कुमार गौड़ भी गांव पहुंचे और मुस्लिम समाज के संभ्रांत लोगों से वार्ता कर कुर्बानी देने और ईद मनाने का आग्रह किया। शाम तक अधिकारी मनाते रहे, लेकिन कोई नतीजा नहीं निकला। गांव में फोर्स तैनात करने से भी मुस्लिम समाज के लोगों में आक्रोश है। इन्होंने कहा…

शिवालाकलां में बड़ी कुर्बानी नहीं होती थी। लोग अमरोहा के नौगावां में कुर्बानी करने जाते थे। चंद लोग विवाद बढ़ा रहे है। शरारती तत्वों को चिन्हित कर कार्रवाई की जाएगी।

Shiwala kalan jila bijnor up. me eid nahi manaigai or na eid ki namaz ada ki

Posted by Arshad Ansari on Wednesday, August 22, 2018