इमरान खान के इस बयान ने बनाई सबके दिलो में जगह, पैगंबर मुहम्मद (सल्ल.) कही ये बड़ी बात

नीदरलैंड के दक्षिण पंथी नेता गीर्ट विल्डर्स पैगंबर मोहम्मद पर अंतरराष्ट्रीय कार्टून प्रतियोगिता कराने की योजना बनाई थी। विल्डर्स की इस योजना को लेकर मुस्लिम दुनिया मे उबाल आगया था और लोग सड़कों पर उतरकर इस नापाक काम का विरोध जता रहे थे।मुस्लिम समाज में पैगंबर मुहम्मद सबसे अज़ीज़ हस्ती है इसलिए दुनिया भर के मुस्लिम देश इस प्रतियोगिता का विरोध कर रहे है।।

पाकिस्तान के वज़ीर ऐ आज़म इमरान खान ने नापाक,भावनाओं को भड़काने वाली हरकत पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा था कि ” जो हॉलैंड के अंदर हमारे नबी सलल्लाहू अलैही व्सल्लम की गुस्ताखी की ,में स्पष्ट रूप से बताना चाहता हूं कि ये कोई एक मुसलमान का मसला नही या चंद मुसलमानों का मसला नही ,हर मुसलमान दुनिया मे जिधर भी वो बस्ता है,ये हम सबका मसला है”

इमरान खान ने कहा कि “ नबी सलल्लाहु अलैय्ही व्सल्लम मुसलमानों के दिल में रहते हैं,जब कोई कोई भी उनकी शान में गुस्ताखी की जाये तो सारे मुसलमानों को तकलीफ़ होती है”

इमरान खान ने कहा यूरोप के लोगों को इस चीज़ की समझ नही है,उसकी समझ इस लिये नही है,कि हम मुसलमानों ने उनको समझाया नही है कि जिस तरह अपने दीन(धर्म) की तरफ वो देखते हैं वो बिल्कुल मुख्तलिफ(अलग) है,जिस तरह हम अपने दीन(धर्म) को देखते हैं।

इमरान ने कहा कि यूरोप को हम सिर्फ तब समझा सकेंगे जब एक मुसलमान मुल्क बात ना करे,या एक मुसलमान मुल्क एक एम्बेसडर को बुलाके अपना प्रोटेस्ट उसके सामने ना करे,सारी मुसलमान दुनिया OIC के प्लेटफार्म से मिलके युनाइटेड नेशन में बताये कि हमें कितनी तकलीफ पहुँचती है जब बार बार हमारे नबी सलल्लाहू अलैय्ही व्सल्लम की शान में गुस्ताखी की जाती है।

इमरान ने कहा कि जब सारे मुसलमान मुल्क एक साथ आके ओआईसी के प्लेटफार्म पर आके बात करेंगे तब ही ये गुस्ताखियाँ रुकेंगी।इस विरोध के चलते हुए नीदरलैंड्स सरकार ने इस प्रतियोगिता के आयोजन को कैंसिल कर दिया है जिसके बाद मुस्लिम दुनिया ने ठण्डी साँस ली है।

Prime Minister Imran Khan takes a strong stance on the issue of the blasphemous caricatures that have hurt sentiments across the Muslim world

Prime Minister Imran Khan takes a strong stance on the issue of the blasphemous caricatures that have hurt sentiments across the Muslim world. He has categorically stated that It is not the issue of a few people, it hurts the sentiments of the community of over a billion Muslims across the globe. The government of Pakistan has already reached out to multiple countries of the OIC in order to present this issue of massive disrespect to Islam at the hands of a few individuals who are anti the religion, and who try and rile up Western masses on this issue under the guise of “freedom of expression”. It is up to the Muslim world to take a united stand, and be unanimous in its assertion at the upcoming United Nations General Assembly session that the West needs to understand the sentiments of Muslims when it comes to love for our Holy Prophet (PBUH). It is no form of freedom of expression to hurt the sentiments of a community of a billion people across the globe, and Pakistan will lead the narrative along with countries of the OIC for laws to be introduced that protects a massively peaceful global community against disrespect of such a manner.نبی کریم ﷺ کی شان میں گستاخی کوئی مسلمان برداشت نہیں کرسکتا۔ ساری مسلم دنیا کو اب اکٹھا ہوکر اس گستاخانہ خاکوں اور گستاخی کا جواب دینا ہوگا۔ میں نے شاہ محمود کو ہدایت کردی ہے تاکہ وہ مسلم ممالک کو اس موقف پر اکٹھا کریں اور ساتھ مل کر اقوام متحدہ میں منہ توڑ جواب دیں – وزیراعظم عمران خان

Posted by Pakistan Tehreek-e-Insaf on Thursday, August 30, 2018