हरभजन सिंह के इस ट्वीट ने साधा बीजेपी की रणनीतियो पर निशाना, किया ऐसा ट्वीट

मॉस्को में खेले गए विश्व कप फाइनल में फ्रांस ने क्रोएशिया को 4-2 से शिकस्त देकर दूसरी बार यह विश्वकप अपने नाम किया। वहीं इस मैच से क्रोएशिया ने लोगों का दिल जीत लिया। यह क्रोएशिया का पहला विश्व कप था।

फुटबॉल विश्व कप में फ्रांस की जीत पर भारतीय क्रिकेट टीम के स्पिन गेंदबाज ने फीफा वर्ल्ड कप के फाइनल के बहाने भारत में हिंदू-मुस्लमानों के बीच होने वाले संघर्षों पर अपनी नाराजगी व्‍यक्‍त की है।

आपको बता दें कि फ्रांस ने दूसरी बार वर्ल्डकप का खिताब जीता, और ऐसा कर पाने वाली वह दुनिया की छठी टीम बन गई है। इससे पहले ब्राज़ील पांच बार, जर्मनी व इटली चार-चार बार तथा अर्जेन्टीना व उरुग्वे दो-दो बार खिताब जीत चुके थे। अब इन छह टीमों के अलावा इंग्लैंड और स्पेन ही ऐसी टीमें हैं, जिन्होंने एक-एक बार वर्ल्डकप का खिताब जीता है।

करके कहा है कि लगभग 50 लाख की आबादी वाला देश क्रोएशिया फ़ुटबॉल वर्ल्ड कप का फाइनल खेलेगा और हम 135 करोड़ लोग हिंदू मुसलमान खेल रहे है। आपको बता दें कि फीफा विश्व कप के रोमांचक फाइनल में दमदार क्रोएशिया को 4-2 से हराकर दूसरी बार विश्व चैंपियन बनने का गौरव हासिल किया।

वहीं फ्रांस की प्रशंसा जाहिर करते हुए पुडुचेरी की उपराज्यपाल किरन बेदी ने इस जश्न के माहौल को जारी रखते हुए फ्रांस के पूर्व उपनिवेश में फुटबॉल को बढ़ावा देने की बात कही। बेदी ने मीडियाकर्मियों के लिए वाट्सएप संदेश में कहा, ‘हम इस जीत को भुनाते हुए केंद्र शासित प्रदेश में गांवों, कस्बों और शहरों के बीच फुटबॉल टूर्मानेंट आयोजित कर फुटबॉल को बढ़ावा दे सकते हैं।’

उन्होंने कहा कि केवल एक बॉल से एकजुट हुआ जा सकता है जैसा कि फ्रांस की टीम में देखा गया। पूर्व आईपीएस अधिकारी ने कहा कि पुडुचेरी में हम फ्रांस को विश्वकप जीतते हुए देखना चाहते थे क्योंकि केंद्र शासित प्रदेश का फ्रांस के साथ बहुत यादगार और ऐतिहासिक रिश्ता है। उपराज्यपाल ने कहा कि पुडुचेरी के हजारों लोग फ्रांस के साथ करीबी संबंध बरकरार रखे हुए हैं जो कई उदार तरीकों से केंद्र शासित प्रदेश की सहायता करता रहता है।