मोदी सरकार की गंगा सफाई का भं!डाफो!ड़, रिपोर्ट ने किया चौ!काने वाला खु!लासा

2014 में प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार के रूप पीएम मोदी ने जनता से वोट के बद!ले जितने भी वादे किए थे वह अब एक एक कर प्रमाणिक रूप से भी जुमले साबित हो रहें हैं।

2014 में इन्हीं वादों में से एक भारत की सबसे बड़ी नदी गंगा की सफाई को लेकर किया था जो अब गंगा नदी जैविक जल गुणवत्ता आकलन (2017-18)’ की रिपोर्ट के अनुसार जु!म!ला सिद्ध हुआ है। यह रिपोर्ट केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा जारी की गई है।

दरअसल इस रिपोर्ट में कहा गया है कि गंगा नदी के गंगा बहाव वाले 41 स्थानों में से करीब 37 पर इस वर्ष मानसून से पहले जल प्रदूषण मध्यम से गं!भी!र श्रेणी में रहा है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि मानसून से पहले गंगा अपने बहाव वाले 41 स्थानों में से केवल 4 पर ही स्वच्छ थी जो की मानसून के बाद एक स्थान पर ही स्वच्छ पाई गई। रिपोर्ट में कहा गया है कि मानसून के बाद गंगा नदी सिर्फ हरिद्वार में ही स्वच्छ थी।

चूंकि 2014 में गंगा में बड़ते प्रदूषण को प्रधानमंत्री मोदी ने अपने प्रचार के दौरान जमकर उठाया था इसलिए अब यह रिपोर्ट प्रधानमंत्री के पूरे होते पांच सालों के कार्यकाल के बाद अब मु!श्कि!लें ख!ड़ी कर सकती हैं।

प्रधानमंत्री पद पर बैठने के बाद पीएम मोदी द्वारा गंगा की सफाई के लिए नमामि गंगे जैसी बड़ी और खर्चिली योजनाएं भी चलाई गई थी जिसके बाद भी गं!गा के प्रदषण अब तक कोई बद!ला!व नहीं हुआ है।