देशभर में बड़ी धूमधाम से मनाई जा रही है बकरीद, प्रेसिडेंट कोविंद सहित इन नेताओ ने दी बधाई

सारे देश में आज मुस्लिम समुदाय के लोग ईद-उल-अजहा का त्योहार मना रहे हैं। ईद-उल-अजहा को बकरीद भी कहा जाता है। यह त्योहार मुस्लिम समुदाय का सबसे बड़ा त्योहार कहा जाता है। बकरीद के दिन मुस्लिम समुदाय के लोग सुबह मस्जिद में नमाज अदा करके बकरे की कुर्बानी देते हैं।

दिल्ली के जमा मस्जिद पर सुबह लोगों ने सुबह भारी संख्या में नमाज अदा की। नमाज अदा करने के बाद गले मिलकर एक दूसरे को ईद की शुभकामनाएं दी।

देश के प्रथम नागरिक राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने ट्विटर पर देशवासियों को ईद की शुभकामनाएं दी हैं। उन्होंने ट्विटर पर लिखा, ‘ईद-उल-जुहा के अवसर पर सभी देशवासियों विशेषकर हमारे मुस्लिम भाइयों और बहनों को बधाई और शुभकामनाएं देता हूं।

इस विशेष दिन हम त्याग और बलिदान की भावना के प्रति अपना आदर व्यक्त करते हैं। आइए, अपने समावेशी समाज में एकता और भाइचारे के लिए मिलकर काम करें।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशवासियों को आज ईद उल अज़हा की शुभकामनाएं दी और उम्मीद जताई कि बलिदान का यह त्योहार समाज में करुणा की भावना प्रगाढ़ करेगा. मोदी ने ट्वीट किया, ‘‘ईद उल जुहा की शुभकामनाएं. यह त्योहार हमारे समाज में करुणा एवं भाईचारे की भावना को प्रगाढ़ करें.’

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ईद-उल-अज़हा पर प्रदेशवासियों को बधाई दी है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की ओर से जारी एक संदेश में कहा गया, ईद-उल-अज़हा का त्योहार सभी को मिल-जुलकर रहने तथा सामाजिक सद्भाव बनाए रखने की प्रेरणा प्रदान करता है। उन्होंने बकरीद का त्योहार शांति आपसी सद्भाव के साथ मनाने की अपील की।

बकरीद का त्योहार मनाने के कारण इस्लाम की पवित्र पुस्तक कुरआन में मिलता है। कुरआन में लिखा है कि एक दिन अल्लाह ने हजरत इब्राहिम से सपने में उनकी सबसे खास और प्रिय की कुर्बानी मांगी थी।

अल्लाह के हुकूम का पालन करने के हुए हजरत साहब ने अपने बेटे की कुर्बानी देने का फैसला लिया. उन्होंने जैसे ही अपने बेटे की कुर्बानी देने के लिए उसकी गर्दन पर वार किया, उसी वक्त अल्लाह ने चाकू की वार को मोड़कर बकरे की कुर्बानी दी। तभी से सारे देश में बकरीद का त्योहार हजरत इब्राहिम की कुर्बानी के लिए याद किया जाता है।

केंद्र सरकार ने दिल्ली के अपने दफ्तरों में 23 अगस्त के बजाय 22 अगस्त को बकरीद की छुट्टी दिए जाने की आज घोषणा की है। कार्मिक मंत्रालय ने कहा कि जामा मस्जिद के शाही इमाम सैयद अहमद बुखारी की अध्यक्षता वाली मरकजी रूयत-ए-हिलाल कमेटी के अनुसार भारत के अन्य शहरों से चांद दिखने की जानकारी आई हैं।

इस आधार पर फैसला किया गया है कि ईद-उल-जुहा के मौके पर केंद्र सरकार के दिल्ली में स्थित प्रशासनिक दफ्तर 23 अगस्त की जगह 22 अगस्त को बंद रहेंगे।

अमन चैन की दुआ के साथ अदा हुई ईद-उल-अजहा की नमाज

अमन चैन की दुआ के साथ अदा हुई ईद-उल-अजहा की नमाज

Posted by Punjab Kesari UP on Wednesday, August 22, 2018