दिल्ली रोहिंग्या आगजनी की लपटों के पीछे बीजेपी नेताओ का हाथ, ऐसे हुआ खुलासा

दिल्ली में पिछले दिनों रोहिंग्या शरणार्थियों की झुग्गियों में आग लगने से कई सारी झुग्गिया जल कर राख हो गई थी। अब इस मामले में नया मोड़ सामने आ रहा है।मुस्लिम संगठनों से जुड़े पदाधिकारियों ने दिल्ली के पुलिस कमिश्नर अमूल्य पटनायक को पत्र लिखकर आरोपी के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। बताया जाता है कि आरोपी ने सोशल मीडिया पर रोहिंग्या बस्ती जलाने की बात स्वीकार की थी ।

मुस्लिमों से जुड़े संयुक्त संगठन ने अपने पत्र में लिखा है-यह आपके संज्ञान में लाना है कि बीजेपी युवा मोर्चा के सदस्य मनीश चंदेला ने ट्विटर पर सार्वजनिक रूप से रोहिंग्या झुग्गियों को जलाने की बात स्वीकार की है। संगठन ने बीजेपी यूथ लीडर के संबंधित ट्विटर के स्क्रीनशॉट भी प्रार्थनापत्र के साथ संलग्न कर कार्रवाई की मांग की।

बता दें कि 14 और 15 अप्रैल की रात दक्षिण दिल्ली के कालिंदी कुंज में रोहिंग्या के रिफ्यूजी कैंप में आल लगने ठिकाने नष्ट हो गए थे। जिसके कारण रोहिंग्या के पहचान पत्र,यूनाइटेड नेशन से जारी विशेष वीजा आदि कागजात जलकर नष्ट हो गए थे।

ट्वीट कर कबूली आगजनी की बात’

भूषण ने अपनी शिकायत में बतौर सबूत चंदेला के उन ट्वीट्स के स्क्रीनशॉट्स भी दिए हैं, जिसमें चंदेला ने दिल्ली के कालिंदीकुंज इलाके में रोहिंग्या कैंप को आग लगाने में अपनी भूमिका स्वीकार की है।

चंदेला ने रोहिंग्या कैंप में आग लगने के दिन अपने ट्वीटर हैंडल (@CHANDELA_BJYM) से कैंप में आगजनी को लेकर किए गए एक ट्वीट के जवाब में लिखा, ‘बहुत अच्छा, हमारे हीरोज’। इसके बाद एक अन्य ट्वीट में चंदेला ने कहा, ‘हां, हमने ही रोहिंग्या आतंकियों के घरों को जला दिया।’

बता दें कि बीती 15 अप्रैल के तड़के दक्षिण दिल्ली के कालिंदीकुंज के पास शरणार्थी कैंप में आग लग गई थी। आग में 200 से ज्यादा शरणार्थियों के घर जल गए थे।

इस आग में शरणार्थियों का सब कुछ जलकर खाक हो गया था। हिंसा के कारण बड़ी संख्या में रोहिंग्या से म्यांमार से पलायन कर चुके हैं। कई रोहिंग्या मुसलमान भारत में शरणार्थी के रूप में रह रहे हैं।