आमिर खान ने पाकिस्तान में अपनी देशभक्ति की पेश की मिसाल, बिना राष्ट्र गान के फ़िल्म दिखाने से किया मना

सुपर स्टार आमिर खान पिछले साल देश में असहिष्णुता के मुद्दे पर बोलने के बाद फर्जी देशभक्तों के निशाने पर आ गये थे। अभिनेता ने कहा था कि वह महसूस करते हैं कि पिछले छह से आठ महीने में असुरक्षा और भय की भावना बढ़ी है। उन्होंने कहा, ‘‘मैं जब घर पर किरण के साथ बात करता हूं, वह कहती हैं कि ‘क्या हमें भारत से बाहर चले जाना चाहिए?’ किरण का यह बयान देना एक दुखद एवं बड़ा बयान है। उन्हें अपने बच्चे की चिंता है। उन्हें भय है कि हमारे आसपास कैसा माहौल होगा। उन्हें प्रतिदिन समाचारपत्र खोलने में डर लगता है।’’

अब आमिर खान ने पाकिस्तान में अपनी देशभक्ति की मिसाल पेश की है। आमिर ने पाकिस्तान में बिना भारतीय राष्ट्र गान के फ़िल्म दिखाने से मना कर दिया है।

दरअसल पाकिस्तान सेंसर बोर्ड ने फिल्म दंगल से राष्ट्रगीत व राष्ट्रध्वज हटाने की मांग की थी जिसपर आमिर खान ने इंकार करते हुए फ़िल्म चलाने से मना कर दिया है।

बताया जा रहा है कि पाकिस्तानी सेंसर बोर्ड ने अभिनेता आमिर खान से फिल्म दंगल के दो सीन हटाने की मांग की थी। एक सीन जिसमें गीता फोगाट को गोल्ड मेडल दिया जा रहा हैं और दूसरा राष्ट्रगान बज रहा है। लेकिन आमिर खान ने सीन हटाने से इंकार कर दिया।

आपको बता दें कि उरी हमले के बाद से पाकिस्तान में बॉलीवुड फिल्मों पर रोक लगी हुई थी। लेकिन जैसे ही रोक हटी तो पाकिस्तानी सेंसर बोर्ड से दंगल रिलीज करने की मांग की थी।